Dard Toh Hua Hoga

Posted: July 17, 2012 by sakshikumarindia in Poems
Another poem by Prateek Garg:
 
देखकर तस्वीर उस लड़की की
जिसकी उछाल दी इज्ज़त भरे बाज़ार में
उस लड़की की तस्वीर देखकर
दर्द तो हुआ होगा 
 
देखकर इंटरवीयू उस लड़की का
जिसके मुंह से दो शब्द ना निकल पा रहे थे
उस लड़की के आंसू देखकर
दर्द तो हुआ होगा.
 
सुनकर शब्द उस व्यक्ति के
जिसने लड़की को बचाने की कोशिश में चोट खा ली
उस व्यक्ति की बेबसी सुनकर
दर्द तो हुआ होगा.
 
देखकर खामोशी उन् लोगों की
जो आस पास घेरा बनाए तमाशा देख रहे थे
उन् लोगों की नपुंसकता देखकर
दर्द तो हुआ होगा.
 
सुनकर कठोर शब्द समाज के
जो आज कोस रहे हैं खुद उस लड़की को
उस समाज के दोग्लेपन्न का हिस्सा बन
दर्द तो हुआ होगा.
 
पढ़कर इंटरवीयू  नेता महाशय का
जो दूसरी पार्टी को इसका ज़िम्मेदार मानते हैं
उस नेता के असली रंग देखकर
दर्द तो हुआ होगा.
 
और देखकर शान उन् हैवानों की
जो आज भी खुल्ले आम सड़क पर घूम रहे हैं
उन दरिंदों की हिम्मत देखकर
दर्द तो हुआ होगा.
 
दर्द तो हुआ होगा
मगर दिल बहलाने को और भी तरीके तैयार हैं.
दर्द तो हुआ होगा
मगर हर बड़ा दर्द सहने को, हर कोई लाचार है
Comments
  1. Gudiya Aalisha says:

    Bitter truth

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s