Author Archive


Last week … I saw a small girl standing near the red light … I tried to talk to her mother and then the Child Welfare department to some how get her to school but was unsuccessful…
some thoughts as I looked into her eyes ….
माँ मुझे गुडिया ले दो …
खड़ी है वो चुप चाप … लालायित आँखों से देखती …
सुबह की हलकी धूप सूखे बालों को सुनहरा करती …
देखती है गुम-सुम सी हँसते बच्चों को स्कूल जाते …
अटकती हैं उसकी नज़रें उनके चमकते जूतों पर …
वापस आती हैं अपने नंगे कटे से पांवों पर …
उस के होठ हिलते हैं जैसे कह रहे हों मन ही मन …
कोई सुनी हुई कविता कोई भूला दो का पहाड़ा …
खड़ी है वो चुप चाप 

कार में बैठी कुछ कुछ अपने ही जैसी लड़की को …
आइस-क्रीम खाती वो लड़की चहक रही है …
देखती है उसको ..उसके बालों में लगे रिबन को …
हाथ उठ जाते हैं खुद के उलझे हुए बालों तक …
जीभ फेरती है अपने सूखे हुए होठों पर …
देखती है खुद को वहां एक पल को …
खड़ी है वो चुप चाप … लालायित आँखों से देखती …

खुद तो संभली नहीं और दूसरे दे दिए गोद में …
बहन और माँ के अंतर को खत्म कर दिया गरीबी ने …
गुड्डे-गुडिया के खेल खेले नहीं …संभाला अपनों को …
घर घर खेलने की उम्र में सेकी असली रोटियाँ …
किस से मांगे वो गुडिया …किस से कहे स्कूल भेज दो …
कौन है अपना …गरीबी में ? 
माँ …मुझे गुडिया ले दो …
© Dr. Anita Hada Sangwan

 

मेरे कदम रुक जाते हैं …दहलीज़ पर …

इसे लांघ कर कोरा  कागज़ है आगे …

या कोरा दिखता है ? लिखा है सब …

मेरी मुस्कुराहटें और आहें … मेरे आंसू और खुशियाँ …

इन कोरे पन्नो में लिखी है किस्मत …

छोड़े जा रही हूँ सर्वस्व ..अपनी पहचान …

 

छोड़े जा रही हूँ …

इस आँगन में अपने नन्हे क़दमों की  आहट …

वो रटी हुई पहली अंग्रेज़ी कविता के शब्द …

बाबुल की गोदी, माँ के आँचल में छुपे मेरे सपने …

भैया के हाथों में  अप्रत्यक्ष राखी के धागे  …

छोड़े जा रही हूँ …

 

दीवार पर लगी पहले स्कूल के दिन की तस्वीर …

और अलमारी से झांकती वो खेल की ट्राफी …

पीपल के पेड़ की टहनी से झूलता टूटा झूला …

और रसोई में बनी वो पहली रोटी की याद …

छोड़े जा रही हूँ …

 

आँगन के कोने कोने में हंसी छुपी है मेरी …

झारोंखें की सलांखों में दबे है कई आँसू …

चौखट में मिटी हुई कई रंगोली हैं मेरी …

और बुझे  हुए कई दीपक के तेल के निशाँ …

छोड़े जा रही हूँ …

 

छोड़े जा रही हूँ सर्वस्व ..अपनी पहचान …

मेरे कदम रुक जाते हैं …दहलीज़ पर …


601990_10200426898811437_1517469981_n (1) 

I slip my hands into the gloves, and bite into the teeth guard…

The clothes hug me tight, womanhood obliterated,

Moving quickly I enter the ring and jump up and down to get the feel..

No name, no gender, am just a number, a weight…a boxer…

 

I slip my gloved hands into the sleeves, the nurse quickly ties the face mask..

I look into her eyes, see tiredness mixed with admiration and respect?

Moving swiftly to the table I hold out my hand for the slap of the scalpel…

No face, no gender, am a healer… a surgeon…

 

Henna on my hands …kohl in my eyes…

Flowing feminine dresses with matching bangles…

Am I to be bound by narrow definitions…

I am to be tried by pre decided perceptions…

Questions lie within …answers hidden from me …

Answers lie within …questions hidden from me


क्या दुआ मांगू ? क्या दुआ मांगू …

दुर्गा माँ के गौरवशाली देश की बेटियों के लिए …

जहाँ जन्मदाता घोंट देते है छोटी सी जान की ज़िन्दगी …

शेर पर नहीं बैठी है कन्या जहाँ …माँ की गोद भी नसीब न हुई …

 क्या दुआ मांगू ? क्या दुआ मांगू …

सरस्वती माँ के उत्कृष्ट  देश की बेटियों के लिए?

जहाँ पालनहार फेर लेते हैं मुंह कूड़े के ढेर में फेंक कर …

वीणा नहीं है हाथ में …कलम भी छीन ली नन्हे हाथों से …

 

क्या दुआ मांगू ? क्या दुआ मांगू …

झांसी की रानी की मिटटी पे पली-बड़ी बेटियाँ …

झुका  के सर चलती हैं …फेंक देते हैं तेज़ाब …

नोच लेते हैं आँचल …अपने भी रखते है दुशासन सी नज़र …

क्या दुआ मांगू ?

 

आज भी नारी अग्नि में जलती है सीता मय्या … चंद पैसों के लिए …

आज भी भरी भीड़ में हर लेते हैं चीर द्रौपदी का … कहाँ हो … कान्हा …

सौ सौ बलिदान देकर अपने सर के …सर ढक कर चली …

कब तक ? …कब तक ? क्या दुआ मांगू ?

 

 
 
 

Lying on the roadside …near the garbage heap,

Covered in your mother’s blood …

Your barely formed head…covered with sparse hair….wet…

Your eyes are clenched closed ……and pointed chin touches your barely moving chest…

Fists closed …arms crossed across your unformed breasts…

Your knees are drawn up tightly across your tiny caved in stomach…

The placenta torn and sneaking through them and lying …like a withered snake …unsure…

Your thin legs are crossed at the tiny delicate ankles…pink toes speckled with blood…

I see you my daughter…

 

 I see you my daughter…

Lying on the roadside …near the garbage heap,

Covered in your own blood …

Your head covered with sticky mottled hair …lying bedraggled across your bare shoulders…

Your eyes are clenched closed ……and pointed chin touches your barely moving chest…

Fists closed …arms crossed across your beautiful bare breasts with burn marks …

Your knees are drawn up tightly across your curved stomach…

The womanhood torn and sneaking through them and lying …like a withered snake …unsure…

Your bare long legs are crossed at the ankles…red coloured toes speckled with blood…

I see you my daughter…

 A journey of a million smiles ….a million blessings…so many tiny dancing steps…so many birthday gifts…a zillion words…so many classes and teachers… beautiful dreams …a journey of a million tears…

…to end from your mother’s blood in your own …from death to death …

 © Dr. Anita Hada Sangwan